शुभ दीपावली

शुभ दीपावली

314
0
SHARE

%e0%a4%b6%e0%a5%81%e0%a4%ad-%e0%a4%a6%e0%a5%80%e0%a4%aa%e0%a4%be%e0%a4%b5%e0%a4%b2%e0%a5%80दीपावली

परिवार के पुनर्मिलन के लिए समय

साझा करने के लिए समय

प्यार के लिए समय

उत्सव के लिए समय

रुककर सोचने के लिए समय की क्या सही क्या गलत हो रहा है

उस भगवान के लिए समय जिसने यह सृष्टि बनाई

आप सभी को दीपावली शुभ हो.

🌅 दीपावली विशेष 🌅

मित्रों !
इस वर्ष दीपावली पर गिफ्ट की अदला बदली बंद करें ।

क्यूँ न इस दीपावली पर एक नया विचार संप्रेषित करें ।
इस दीपावली को दोस्तों को मिले तो बिना गिफ्ट के मिले |
हमने ये क्या परम्पराएँ  शुरू कर दी कि तुम मेरे यहाँ आना तो गिफ्ट लेकर आना और जब मैं तुम्हारे यहाँ आऊंगा तो गिफ्ट लेकर आऊंगा ।
आपके इस गलत परंपरा से बड़ी बड़ी कंपनियां चाँदी काट रही है , बड़े – बड़े दुकानदारों के पौ-बारह हो रहे है । मध्यम वर्ग के लोग डिब्बों के रेट उलट-पलट रहा है की किस दोस्त को क्या देना चाहिए ? अपने बास को क्या दें ? कौन सा रिश्तेदार कितनी हैसियत का है ?
कोई दोस्त महंगा गिफ्ट देता है
तो उसको भी मँहगा ही गिफ्ट वापस करना होगा और कोई हल्का दोस्त हो तो गिफ्ट भी हल्का दे दो |

    यह विज्ञापनों और सीरियलों द्वारा माहौल बनाया जा रहा है , टीवी और सारा मीडिया आपको ये बताने पर लगा है की कितना- कितना सामान कहाँ कहाँ बेचा जा रहा है |

     दोस्तों ! यह खबरे नहीं है यह आपके दिमाग को अर्थ कुचक्र में घुमाने की साजिश है जिससे आपको लगे कि सारी दुनिया सामान खरीदने में आगे है भला हम कैसे पीछे रह गए ।
इस साल इस विचार पर काम करे, दीवाली को दीवाला न बनाए ।

Also Read:  वर्ण व्यवस्था सरल स्वरूप

     दोस्तों !  इस साल दोस्ती को सेलिब्रेट करो दोस्तों से मिलकर । अपने व्यस्त समय में से अपने दोस्तों रिश्तेदारों प्रियजनों को मिलना और उनसे दिल की बात करना ही गिफ्ट है। क्या आपको अच्छा नही लगता जब कोई प्रियजन बहुत दिन बाद मिलता है ?
क्या आपको गिफ्ट की चाहत रहती है ?

पैसे अगर खर्चने ही हैं तो उन गरीब हिन्दू भाइयो पर खर्चो जो
मीठा नही खरीद पाते
कपड़े नही खरीद पाते
पटाखे नही खरीद पाते
दिए नही खरीद पाते
घी या तेल नही खरीद पाते

इस दीपावली
किसी भरे पेट को मिठाई कपड़े पटाखे के गिफ्ट न देकर
किसी जरूरतमन्द को मिठाई कपडे पटाखे दें

ताकि वह भी भगवान राम के इस त्यौहार को अपने परिवार के साथ ख़ुशी से मना सके ।

मूर्खता त्यागो
देशसेवा में भागिदार बनो

no gift to riches
Help poor Hindus.

भगवान की सेवा मतलब
भगवान के बनाये जरूरतमन्दों की सेवा।

जरूरतमन्दों में गाय भी आती है । हर वो जीव जिसे प्रभु ने बनाया और जो जरूरतमन्द हो उसकी सेवा करो । पूण्य भी मिलेगा । परलोक भी सुधरेगा । शायद मोक्ष भी मिल जाए ।
spread it if you like the idea

www.bharatsamachaar.blogspot.in

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY