शिक्षक दिवस कविता

शिक्षक दिवस कविता

517
0
SHARE

जब घबरा जाता था
कठिन शब्दों की इमला से
आँखों से बहने लगते थे आँसू
तब कोई था
जो हौसला बढ़ाता था
लिखना सिखाता था

जब लिख कर दिखाता था
किसी पन्ने पर  
कल्पना से बातें करती
कोई कविता
तब कोई था
जो सहेजना सिखाता था

जब पढ़ता था
फर्राटेदार संस्कृत
क्लास रूम रीडिंग के समय
तब कोई था
जो सबसे तालियाँ बजवाता था

जब ज़रूरत थी
कॉमर्स की
महंगी किताबों की
तब कोई था
जो निश्चिंत रहने को कहता था

जब दिक्कत आती थी
अङ्ग्रेज़ी बोलने में
नौकरी की जगह पर
तब कोई था
जो झिझक मिटाता था

वो कोई था 
वो अब भी है
मेरे दिल के भीतर
बीते दिनों की यादों के साथ  
इस सफर में
न कभी भूला हूँ
न कभी भूलूँगा
अपने शिक्षकों को।

Also Read:  मुंबई फिल्म industry का terrorist कनेक्शन

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY