लाल बहादुर शास्त्री जी की हत्या

    574
    0
    SHARE
    lal bahadur shastri and his wife

    शास्त्री जी की मौत का रहस्य

     

    कुछ मौतें ऐसी होती हैं जो तमाम उम्र रहस्य बनी रहती हैं. ऐसी ही मौत लालबहादुर शास्त्री जी( Lal Bahadur Shastri ) की भी थी जो आज भी रहस्य बनी हुई है. लालबहादुर शास्त्री( Lal Bahadur Shastri ) भारत के दूसरे प्रधानमंत्री थे. लालबहादुर शास्त्री की सादगी ऐसी थी कि उन्हें देखने वाला व्यक्ति उनकी तरफ आकर्षित हो जाता था. लालबहादुर शास्त्री जी( Lal Bahadur Shastri ) का नाम भले ही इतिहास के पन्नों में नजर नहीं आता है पर यह वो नाम है जिसने जय जवान-जय किसान का नारा देकर देश के किसानों और सीमा पर तैनात जवानों का आत्मबल बढ़ाने की नई मिसाल कायम की थी.

     

    Lal Bahadur Shastri Death Mystery

     

    लालबहादुर शास्त्री: क्या सुलझेगी मौत की गुत्थी ?

     

    लालlal bahadur shastri and his wifeबहादुर शास्त्री की मौत (Lal Bahadur Shastri Death)को जब कई साल बीत चुके थे तब लालबहादुर शास्त्री ( Lal Bahadur Shastri ) के बेटे सुनील शास्त्री ने लालबहादुर शास्त्री के मौत के रहस्य (Lal Bahadur Shastri Death Secret)की गुत्थी सुलझाने को कहा था. पूर्व सोवियत संघ के ताशकंद में 11 जनवरी, 1966 को पाकिस्तान के साथ ताशकंद समझौते पर दस्तखत करने के बाद शास्त्री जी की मौत हो गई थी. लालबहादुर शास्त्री के बेटे सुनील शास्त्री का कहना था कि जब लालबहादुर शास्त्री की लाश को उन्होंने देखा था तो लालबहादुर शास्त्री की छाती, पेट और पीठ पर नीले निशान थे जिन्हें देखकर साफ लग रहा था कि उन्हें जहर दिया गया है. लालबहादुर शास्त्री की पत्नी ललिता शास्त्री का भी यही कहना था कि लालबहादुर शास्त्री की मौत संदिग्ध परिस्थितियों में हुई थी.

    Also Read:  MDTV Television

     

    लालबहादुर शास्त्री: स्वयं को जिम्मेदार तो नहीं मान रहे थे……..

     

    लालबहादुर शास्त्री ( Lal Bahadur Shastri ) के बारे में कहा जाता है कि वे निणर्य लेने से पहले कई बार सोच-विचार करते थे इसलिए उनके अधिकांश निर्णय सही होते थे. पर कहते हैं कि लालबहादुर शास्त्री का ताशकंद समझौते ( Tashkent Agreement)पर हस्ताक्षर करना गलत निर्णय था और यही बात शास्त्री जी को महसूस होने लगी थी जिस कारण लालबहादुर शास्त्री (Lal Bahadur Shastri ) ने अपने आप को हानि पहुंचाई थी या फिर वास्तव में लालबहादुर शास्त्री की मौत 11 जनवरी, 1966 को ह्रदयाघात के कारण हुई थी.

     

    देश लालबहादुर शास्त्री जी ( Lal Bahadur Shastri ) के समय में काफी आर्थिक समस्याओं से घिरा हुआ था. ऐसा कहा जाता है कि लालबहादुर शास्त्री आर्थिक समस्याओं को सुलझा नहीं पा रहे थे जिस कारण वे काफी आलोचनाओं से घिर गए थे.

     

    Lal Bahadur Shastri Life

     

    शास्त्री जी का जीवन और मां के साथ लगाव

     

    भारत माता के लिए भी वो दिन खुशी का रहा होगा जब 2 अक्टूबर, 1904 को मुगलसराय, उत्तर प्रदेश में लालबहादुर शास्त्री( Lal Bahadur Shastri ) ने जन्म लिया होगा. लालबहादुर शास्त्री( Lal Bahadur Shastri ) का का वास्तविक नाम लाल बहादुर श्रीवास्तव था. लालबहादुर शास्त्री बचपन से ही शिक्षा में कुशल थे जिस कारण स्नातकोत्तर की परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद उन्हें ‘शास्त्री’ की उपाधि से सम्मानित किया गया था. लालबहादुर शास्त्री ( Lal Bahadur Shastri )भारत संघ से जुड़े थे जहां उन्होंने राजनीति को समझने की शुरुआत की थी.

    Also Read:  राजीव दीक्षित भारत निर्माण अभियान का पहला कदम...

     

    बहुत कम लोग ऐसे होते हैं जो अपने व्यस्त जीवन में भी मां की नरम-नरम हथेलियों से प्यार और दुलार लेना नहीं भूलते हैं. लालबहादुर शास्त्री ( Lal Bahadur Shastri ) पर उनके पुत्र सुनील शास्त्री द्वारा लिखी पुस्तक ‘‘लालबहादुर शास्त्री, मेरे बाबूजी’’ में बताया गया है कि शास्त्री जी की मां उनके कदमों की आहट से उनको पहचान लेती थीं और बड़े प्यार से धीमी आवाज में कहती थीं ‘‘नन्हें, तुम आ गये?”  लालबहादुर शास्त्री ( Lal Bahadur Shastri ) का लगाव अपनी मां के साथ इतना था कि वे दिन भर अपनी मां का चेहरा देखे बगैर नहीं रह सकते थे.

     

    Lal Bahadur Shastri- Indian Prime Minister

     

    लालबहादुर शास्त्री: विनम्र प्रधानमंत्री

     

    lal bahadur shastriलालबहादुर शास्त्री ( Lal Bahadur Shastri )कहा करते थे कि ‘हम चाहे रहें या न रहें, हमारा देश और तिंरगा झंडा रहना चाहिए’. लालबहादुर शास्त्री ( Lal Bahadur Shastri ) उन राजनेताओं में से एक थे जो अपने पद के दायित्व को भली प्रकार समझते थे. आजादी के बाद उत्तर प्रदेश में गोविंद वल्लभ पंत जब मुख्यमंत्री बने तो लाल बहादुर शास्त्री को उत्तर प्रदेश का गृहमंत्री बना दिया गया. नाटे कद व कोमल स्वभाव वाले शास्त्री को देखकर किसी को कल्पना भी नहीं थी कि वह कभी भारत के दूसरे सबसे सफल प्रधानमंत्री बनेंगे. एक समय ऐसा आया जब लालबहादुर शास्त्री को रेल मंत्री बनाया गया. लाल बहादुर शास्त्री ऐसे राजनेता थे जो अपनी गलती को सभी के सामने स्वीकार करते थे जिसके चलते लालबहादुर शास्त्री( Lal Bahadur Shastri ) ने रेल मंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया था.

    Also Read:  Indian cow Economics/ भारतीय गाय का अर्थ शास्त्र

     

    लालबहादुर शास्त्री( Lal Bahadur Shastri ) को 1964 में देश का दूसरा प्रधानमंत्री बनाया गया था. 1966 में  उन्हें भारत का पहला मरणोपरांत भारत रत्न का पुरस्कार भी मिला था.लालबहादुर शास्त्री( Lal Bahadur Shastri ) को चाहने वाले लोगों को वो दिन आज भी याद आता है जब 1965 में अचानक पाकिस्तान ने भारत पर सायं 7.30 बजे हवाई हमला कर दिया था तो उस समय तीनों रक्षा अंगों के चीफ ने लालबहादुर शास्त्री से पूछा ‘सर आप क्या चाहते है आगे क्या किया जाए…आप हमें हुक्म दीजिए’ तो ऐसे में लालबहादुर शास्त्री ( Lal Bahadur Shastri ) ने कहा कि “आप देश की रक्षा कीजिए और मुझे बताइए कि हमें क्या करना है?” ऐसे प्रधानमंत्री बहुत कम ही होते हैं जो अपने पद को सर्वोच्च नहीं वल्कि अपने पद को जनता के लिए कार्यकारी मानकर चलते है. किसी ने सच ही कहा है कि वीर पुत्र को हर मां जन्म देना चाहती है.लालबहादुर शास्त्री ( Lal Bahadur Shastri ) उन्हीं वीर पुत्रों में से एक हैं जिन्हें आज भी भारत की माटी याद करती है.

     

    Please post your comments on: आपको क्या लगता है कि लालबहादुर शास्त्री की मौत कैसे हुई होगी ?

     

    http://www.scribd.com/doc/143635279/Silent-Assassins-Jan11-1966  इस पुस्तक को भी पढ़ें..

    NO COMMENTS

    LEAVE A REPLY