राष्ट्रभाषा क्षेत्रीय भाषा और अंतर राष्ट्रिय भाषा क्या होनी चाहिए

राष्ट्रभाषा क्षेत्रीय भाषा और अंतर राष्ट्रिय भाषा क्या होनी चाहिए

1110
0
SHARE
आज हम यह सवाल उठा रहे हैं किसी एक देश के लिए नहीं बल्कि सम्पूर्ण विश्व के लिए.

राष्ट्रभाषा, क्षेत्रीय भाषा और अंतर राष्ट्रिय भाषा क्या होनी चाहिए

शुरुआत करते हैं एक ऐसे छोटे से क्षेत्र से जहाँ सब सिर्फ 1 ही भाषा में संवाद करते हो.

उदहारण के लिए उड़ीसा राज्य को ले लेते हैं.
मान लेते हैं की उड़ीसा एक देश है..
अब इस उड़ीसा देश की भाषा क्या होनी चाहिए ?
सोचिये सोचिये.. निचे पढने से पहले जरा सोचिये की क्या आधार होना चाहिए किसी देश की भाषा को चुनने का ?
जो भाषा यहाँ के लोग बोलते हो और समझते हो … वही होगी न और अन्य तो कोई भाषा नही हो सकती.
तो वह भाषा हुई उड़िया भाषा.
यानि उड़ीसा में हर कार्य उड़िया भाषा में होगा तभी उड़ीसा के लोगों को सब कुछ समझ आएगा. उनकी कानून, उनकी न्याय व्यवस्था, उनके सरकारी काम, उनके नेताओ का भाषण, उनके राज्य में घटित होने वाली सारी बातें सब उस क्षेत्र की भाषा में होंगी तब ही तो सब को सब कुछ समझ आएगा..

लेकिन अगर इन्ही लोगों को अंग्रेजी या अन्य कोई भी भाषा में काम करने को कहा जाये तो इन सबको बहुत कठिनाई होगी और उनके साथ अन्याय होगा.

यानि पहला नियम यह बना की जो भी क्षेत्र है, उस क्षेत्र में जो भी सरकारी या कोई भी कार्य होना है उसको उसी क्षत्रिय भाषा में अनिवार्य होना ही चाहिए.. शिक्षा का स्त्रोत्र भी उसी क्षेत्रीय भाषा में देना अनिवार्य होगा.

अब प्रश्न उठता है की उड़ीसा तक तो यह ठीक है लेकिन जब उड़ीसा के लोग बहार जायेंगे तब क्या होगा ? बहार के लोगों को उड़िया आती होगी नही और उड़ीसा के लोगों को बहार के लोगों की भाषा नहीं आती होगी तो संवाद कैसे होगा ??

उसके लिए  एक ऐसी भाषा और होनी चाहिए जिससे आपस में संवाद बने..
तो जैसे एक राज्य की एक भाषा
ऐसे ही एक देश की एक भाषा
लेकिन एक देश में अनेक राज्य हैं और सभी राज्यों की अपनी अपनी क्षेत्रीय भाषा..
तो उसके लिए सभी राज्यों को जोड़ा जाये और देखा जाये की सभी राज्यों को मिलाकर कौनसी भाषा सबसे ज्यादा बोली व् समझी जाती है .. यही किया जायेगा न ?

तो जो भी भाषा आएगी वह राष्ट्र भाषा होगी..
क्या और कोई मापदंड है आपके पास ??

तो सरलता से बात करें तो
हर क्षेत्र की अपनी क्षेत्रीय भाषा में काम अनिवार्य हो.
साथ ही उस क्षेत्रीय भाषा का राष्ट्रभाषा में भी रूपांतरण हो . क्यूँ ? ताकि देश के दुसरे राज्य इस क्षेत्र में होने वाले सभी काम समझ सकें. कोई दिल्ली से उड़ीसा गया तो बोर्ड पर उड़िया भाषा के साथ राष्ट्रभाषा होगी तभी तो उसको कुछ समझ आएगा. ऐसे ही जब कोई उड़ीसा से दिल्ल्ली जायेगा तो उसको भी राष्ट्रभाषा से फायदा मिलेगा.

Also Read:  Mango Benefits / आम के फायदे

देश की सरकार या देश से जुड़े हर काम राष्ट्र की भाषा में हो.
राज्य सरकारे या राज्य से जुड़े सभी कार्य राज्य की अपनी भाषा में और साथ ही राष्ट्रभाषा में हो. (यानि 2 भाषाएँ)

अब देश को विदेश से जुड़ना है तो क्या हो ?
देश की सरकार या देश से जुड़े सभी काम भी 2 ही भाषाओँ में हो
एक राष्ट्रिय भाषा
दूसरी अंतर राष्ट्रिय भाषा

यानि सभी की समस्या समाप्त..

अब बात करते हैं राष्ट्रभाषा क्या हो ?

हमने भारत सरकार को RTI लगाकर पूछा तो पता चला की

हिंदी भारत के 35% (42.20 Crore) out of (121 crore) लोगों की पहली भाषा है.

(पहली भाषा बोले तो mother tongue) जिसमे वो संवाद करते हैं अक्सर. दूसरी भाषा वो जानते हैं लेकिन उनके लिए पहली भाषा वः है जिसमे वो हर वक़्त संवाद करना पसंद करते हैं या उनकी प्राकृतिक भाषा है क्यूंकि उसी भाषा में बचपन से आज तक पले और बढे..

बंगाली भारत के 7% (8.33 crore) लोगों की पहली भाषा है

तेलुगु 6% (7.4 crore),

Marathi  6% (7.19 CRORE)

Tamil 5% (6.07 crore)

और इसके बाद अन्य

अंग्रेजी भारत के 0.01871%  (226449 लोगों)  yani sirf aur sirf 2.25 lakh log की पहली भाषा है..

तो आप ही बताइए की कौनसी भाषा राष्ट्र भाषा होनी चाहिए और क्यूँ ?
हिंदी या तमिल या बंगाली या अंग्रेजी ?????

आप विद्रोह करने का हक़ तो रखते हो लेकिन solution कौन देगा समस्या का.. हल तो बताइए न..

हमने जो हल दिया उससे बेहतर विकल्प है तो दीजिये न.. और नही है विकल्प तो हमारे इस हल में क्या कमी रह गयी वो बताइए..

हमारा स्पष्ट हल फिर से कहता हूँ
1 हर क्षेत्रीय भाषा का पूर्ण रूप से सम्मान होगा, वो कैसे की उस क्षेत्र में उसी भाषा में सभी सरकारी काम होंगे..
2 साथ ही सारे क्षेत्रीय काम का राष्ट्रभाषा में रूपांतरण होगा ताकि देश के अन्य लोग उनसे जुड़ सके..
3 देश की राष्ट्रभाषा भी देश के सभी राज्यों में सबसे ज्यादा संवाद में ली जाने वाली भाषा होगी जो की अभी हिंदी है. देश का सारा काम राष्ट्रिय भाषा में होगा..
4 देश को अगर विदेश के लोगों से जुड़ना है तो उन्हें सारा काम राष्ट्रभाषा के साथ अंतराष्ट्रीय भाषा में रूपांतरण भी करना होगा..

Also Read:  आंवले का मुरब्बा घर पर कैसे बनाये

हमे अन्य भाषा से कोई परहेज या इर्ष्य नहीं है … हमे अन्य भाषा सीखनी चाहिए हमारी जरूरत के अनुसार..
हमे हमारी मातरि भाषा में शिक्षा मिलेगी तो हम ज्यादा अच्छे से चीजो को समझ पायेंगे..

इंग्लिश मीडियम स्कूल में नही पढ़ो
बल्कि अपनी क्षेत्रीय भाषा में पढो लिखो क्यूंकि आप बचपन से लेकर आज तक उसी भाषा का प्रयोग करते आ रहे हो . वही है आपकी भाषा जिसमे आपको सोचना नही पड़ता.

एक अंग्रेजी किताब उठाओ और पढो
आपको तुरंत नींद आनि शुरू होगी … क्यूँ ???? क्यूंकि आपका मस्तिक्ष अंग्रेजी पढ़ते हुए उसका हिंदी अनुवाद कर रहा है जिससे दिमाग पर जोर पड़ता है, वह थकता है और नींद आती ही है..

अब अपनी क्षेत्रीय भाषा की पुस्तक पढो, न कोई नींद न कोई बोरियत..आपको समझ भी तेजी से आएगी.

जरा उत्तर भारत के लोग याद कीजिये जब आप हिंदी का पेपर देने जाते थे तो क्या इतनी म्हणत करनी पड़ती थी लेकिन नंबर फिर भी अच्छे आते थे..

जबकि अंग्रेजी भाषा में कितनी ही मेहनत कर लो नंबर 60 से ऊपर नहीं आये..

क्यूँ ? क्यूंकि आप अंग्रेजी 1 दिन में 40 मिनट के पीरियड में कक्षा में पढ़ते थे..
जबकि हिंदी में तो सुबह से लेकर शाम तक सारे काम करते थे.. तो आपकी भाषा हिंदी ही हुई न ..

अक्सर हम कुछ बातें सुनते हैं जैसे :-
1 भारत में विभिन्न भाषाएँ हैं तो यहाँ 1 भाषा को राष्ट्र भाषा कैसे बनाया जा सकता है (यह तो सारे विश्व का हाल है, सिर्फ भारत का थोड़े ही, हमने ऊपर हल दिया इस बात का.. बताइए की आपके पास इससे बेहतर हल है क्या ?
2 हिंदी भाषा तो सिर्फ उत्तर भारत की भाषा है (ऐसा नहीं है, हिंदी में जब आप मुंबई या कलकत्ता या जम्मू या बंगलोरे जोगी तो आपकी बात समझी जाएगी और जवाब भी दिया जायेगा.. 41% जनता ने पहली भाषा चुना है इसको, लेकिन बहुत से लोगों की यह दूसरी भाषा भी है )
3 अंग्रेजी भाषा भारत में सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषा है इसलिए इसके सिवाय कोई और राष्ट्रभाषा हो ही नही सकती (बिलकुल झूठ, सरकारी रिपोर्ट बताती है .03 % लोग की पहली भाषा है अंग्रेजी, सिर्फ .03% तो बाकी देश की जनता पर क्यूँ थोपे हम इसको ? और यह जब हमारी देश की भाषा ही नहीं तो हमारी कैसे हुई ? )
4 तमिल या तेलुगु राष्ट्र भाषा होनी चाहिए (ऊपर हमने सुझाव दिया की यह भाषाएँ भी बहुत से लोगों द्वारा बोली जाती हैं लेकिन इससे ज्यादा बोली जाने वाली भाषा जब मौजूद है तो उसको हम कैसे छोड़ दे ?)
5 बंगाली राष्ट्र भाषा होनी चाहिए (ऊपर वाला ही जवाब )
6 अंग्रेजी विश्व की भाषा है (यह सबसे बड़ा झूठ है.. विश्व के 10 बड़े देश के नाम बोलिए और उनकी भाषा देखिये.. आपको स्वतः अंदाजा हो जायेगा..
america अंग्रेजी, (https://en.wikipedia.org/wiki/Languages_of_the_United_States)
जापान जापानी
चीन मंदारिन
फ्रांस फ्रेंच
जर्मनी जर्मन
रूस राशियन
अरब उर्दू
भारत हिंदी
इंग्लैंड अंग्रेजी
BRAZIL PORTUGEESE (210 LANGUAGE) https://en.wikipedia.org/wiki/Languages_of_Brazil
ऑस्ट्रेलिया कनाडा
ये दोनों देश आज भी इंग्लैंड की रानी के आदेश से चलते हैं.. तो वहां अज भी अंग्रेजो की भाषा ही चलती है.

Also Read:  British and American laws in India

आप यूनाइटेड NATIONS सयुंक्त राष्ट्र की भाषा ही देख लीजिये.. उसमे भी कई भाषाएँ है, सिर्फ अंग्रेजी नहीं..

उम्मीद है आपको यह बात पसंद आई होगी, समझ भी आई होगी..
अगर आपको सही लगी तो इस बात को अपने तरीके से अपनी भाषा में लिखकर प्रधानमंत्री को तुरंत भेजें..
आसपास के लोगो से इस मुद्दे पर चर्चा करें और निकालें एक ऐसा हल जो सबके हित में हो..

http://pgportal.gov.in/pmocitizen/GrievancepmoHI.aspx

Narendra Modi Office Contact Details

Narendra Modi Office Address : South Block, Raisina Hill, New Delhi-110011, India
Narendra Modi Office Phone Numbers : +91-11-23012312

Narendra Modi Office Fax Numbers : +91-11-23019545,23016857

Narendra Modi Email Address : narendramodi1234@gmail.com  [It is Prime Minister’s Email ID. We got it from his Android App page. There is no official email address of PM modi available now, if there is any, we will update it surely.]
Narendra Modi Official Website : www.narendramodi.in

Narendra Modi Residence Contact Details

Narendra Modi Residence Address : 7 Race Course Road, New Delhi

Narendra Modi Social Media Links & Pages

Narendra Modi Facebook Fan Page – facebook.com/narendramodi.official
Narendra Modi Twitter Account – twitter.com/narendramodi

Narendra Modi Linkedin Account– linkedin.com/in/narendramodi
Narendra Modi Google Plus Account – plus.google.com/+NarendraModi

Narendra Modi Instagram Account- instagram.com/narendramodi
Narendra Modi YouTube Channel – youtube.com/user/narendramodi


If you want to interact with Narendra Modi, you can contact here also-  pmindia.gov.in/en/interact-with-honble-pm  to login and register yourself to contact with PM Modi.

Full copy of RTI.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY