शेयर करें

हिन्दू संस्कृति (सनातन धर्म) को जानबूझकर गन्दा करने के लिए नकली और घटिया लोगों को उच्च पदों पर बिठाया गया।
जीता जागता उदाहरण
सचिन दत्ता जिसको बना दिया गया सच्चिदानंद महामण्डलेश्वर । शिवपाल सिंह यादव  और ॐ प्रकाश सिंह की मौजूदगी में इस नकली व्यक्ति को संन्यास लेने के अगले ही दिन महामण्डलेश्वर बनवा दिया गया।
इस नकली बाबा के ठेके, डिस्को के काम हैं।

ऐसे ही नकली है ये राधे माँ
निर्मल बाबा जैसे ठग

ऐसे ही बहुत से नकली लोग बैठे हैं जिनकी पहचान बहुत आसान है।
जिन बाबाओ के आगे देशद्रोही लोग झुकते हैं जैसे सोनिया राहुल स्वरूपानंद सरस्वती के आगे।

जो कांग्रेसी या अन्य देशद्रोही पार्टी हिन्दू आतंकवाद बोलती हैं वो कुछ गिने चुने हिन्दू बाबा के आगे क्यों झुकती हैं ? क्योंकि वह उन्ही के द्वारा पोषित आस्तीन के वो सांप हैं जो अंदर रहकर हिन्दू धर्म को दूषित करने में लगे हैं।

जैसे हर चमकती चीज सोना नही होती वैसे ही हर बाबा असली नही होता।

हिन्दू  धर्म था है और रहेगा।
कोई कटुवे
कोई ईसाई
या और कोई राक्षस जाती इसको समाप्त नही कर सकती।

Also Read:  Hadhrat Muhammad aur Islam.(Prophet Muhammad and Islam)

कोई टिप्पणी नहीं है

कोई जवाब दें