रक्षा बन्धन पर विशेष कहानी

रक्षा बन्धन पर विशेष कहानी

610
0
SHARE

रक्षा बन्धन
जब एक भाई अपनी बहन की रक्षा का वचन देता है
जब एक बहन अपने भाई को रक्षा कवच बांधती है की उसका भाई सदा सुरक्षित रहे।

लेकिन वो लोग भी किसी के भाई ही होते हैं जो समाज में और किसी की बहन से बदतमीजी या छेड़छाड़ और भी खिनौने अपराध करते हैं। समाज के लोग उसको ignore करते हैं की मुझे क्या ? मेरी बहन थोड़े ही है ।

अमित सड़क से गुजर रहा था, उसने एक लड़की की चीख पुकार सुनी, वह कुछ षण वहां रुका, देखा और ये सोचकर आगे बढ़ गया की उसकी बहन तो शहर में है ही नही, तो बेकार किसी और के झगडे में क्यूँ पड़ना। 
शाम तक खबर आ गई की तुम्हारी बहन का अपहरण करके हत्या कर दी गयी। और पता करने पर पता चला की ये उसी जगह की घटना है जहाँ वो सुबह चीख सुनी थी।

अब वो ये सोचने लगा की अगर मुझे पता होता की वो मेरी बहन है तो मैं उसे बचा लेता। 
फिर ये सोचा की वहां के लोगों की आत्मा कितनी मर गयी होगी जो उन्होंने मेरी बहन को नही बचाया।

अब ये सवाल उसके खुद के ऊपर था की जब उसने दुसरे की बहन को नही बचाया तो उसकी बहन को कोई कोई दूसरा क्यूँ बचाएगा।

उसकी बहन अब वापस नही आ सकती थी लेकिन उसने अपनी बहन से वादा किया की अब से हर अबला की मदद करेगा बिना ये सोचे की वो उसका कोई अपना है या नही।

Also Read:  Myths about RSS

दोस्तों हम और हमारे परिवार के लोग हर वक़्त एक दुसरे के साथ नही रह पाते, सबके अपने अपने कार्य क्षेत्र हैं। आपकी माँ बहन बेटी भी घर से बाहर जाती हैं, नौकरी पर , दफ्तर में, स्कूल कालेज में व् अन्य घरेलु कारणों से। 
अब उनके साथ कोई बदतमीजी करे, बदसलूकी करे तो क्या आप नही चाहेंगे की उनकी रक्षा हो?

ऐसे ही अगर हम सब अपनी बहन के साथ साथ किसी अन्य की बहन की रक्षा करेंगे तो सबकी बहन की रक्षा होगी।

आप भी अमित की तरह अपनी बहन के साथ गलत होने का इंतज़ार करेंगे या फिर आज से ये प्रण लेंगे की किसी की भी बहन के साथ गलत नही होने देंगे। अपनी बहन की तरह उसकी भी रक्षा करेंगे चाहे इसमें अपनी जान ही क्यूँ न देनी पड़े। कम से कम आपका जीवन किसी सार्थक कार्य में सफल होगा।

आज हर बहन अपने भाई को ये कहानी सुनाये या भेजे और उससे यह वचन ले की वो सबकी बहन को सम्मान देगा व् उनकी जरूरत पड़ने पर रक्षा करेगा ।

रक्षा का ये बंधन तभी हमारे भारत के इस पर्व को सदियो तक अमर बनाएगा ।

रक्षा बंधन की शुभकामनाये ।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY