शेयर करें

नमस्कार दोस्तों ।

पहले हम अपनी जरूरत को समझें ।

प्रदुषण समस्या है । प्रतिदिन प्रतिक्षण यह बढ़ ही रहा है ।

इसके मुख्य कारण
1 डीजल पेट्रोल से चलने वाली मशीन ज्यादातर गाड़िया वाहन

2 कोयले से चलने वाले प्लांट चाहे बिजलीघर हो या भट्टे इत्यादि

मुख्यतः यह दो ही हैं

उपाय
बिजली को तुरंत सोलर ऊर्जा पालिसी बनाकर अनिवार्य रूप से लागु कर देना चाहिए । सब्सिडी दो सस्ती दरो पर लोन दो ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग इसे लगवाएं और दिल्ली की बिजली के लिए कोयला जलाकर प्रदुषण न करना पड़े । बल्कि पुरे भारत को सौर ऊर्जा की तरफ तुरंत मुड़ना चाहिए ।

अब आया नम्बर गाडियो का
दिल्ली में कुछ महान बुद्धिजीवी कह रहे की एक दिन odd नम्बर एक दिन even नम्बर की गाडी चलवाओ ।
क्या इससे गाड़ियां रोड से कम होंगी ??
गाडी होती किसके पास है ? अमीर व्यक्ति या uppar मिडिल क्लास । क्या आप उन लोगों की गाडी छुड़वा सकते हो ? वो एक और गाडी नही खरीद सकते क्या ?? गाड़ियां सड़को पर व्ही की व्ही रहेंगी। पार्किंग स्पेस और खत्म हो जायेगा क्योंकि एक गाडी घर पर रहेगी और एक चलेगी ।

अब इसकी जगह अगर कुछ इनोवेटिव किया जाए तो
1 प्रत्येक पैन या आधार पर 1 ही गाडी allow वो भी ITR के आधार पर उसकी हैसियत देखकर ।
2 गाड़ियों के दाम 5-10 गुने कर दिए जाएं।
3 पेट्रोल डीजल के दाम प्राइवेट गाड़ियों के लिए 5-10 गुना कर दिए जाएँ
4 जिसके पास पार्किंग space नही उसको गाडी खरीदने या रखने की मनाही।
5 गाड़ियों पर लोन बन्द कर दिए जाएँ ।

Also Read:  भारत देश की असली जरुरत / Real Need of India today in 2012

नतीजे क्या होंगे
1 हमारा देश डीजल पेट्रोल बाहर से खरीदता है और हर साल बजट में बड़ा नुक्सान इसी बिल की वजह से होता है । जब यह ज्यादा ऊँचे दाम पर बिकेगा तो मांग कम होगी । भारत कम इम्पोर्ट करेगा । और जो डिमांड होगी भी वह ऊँचे टैक्स सरकार को देगी 5 से 10 गुना
जिससे देश को इस बिल से कमाई भी हो सकती है ।

2 ज्यादातर लोग जिन्हें कार या गाडी की आवश्यकता नही है वह स्वयं ही गाडी नही लेंगे या रोड पर चलानी बहुत कम कर देंगे ।

3 सड़के खाली दिखेंगी तब सरकार को सरकारी वाहन मौजूद कराने चाहिए वो भी तय समय सिमा पर चलने वाले । ताकि जनता सरकारी वाहन पर भरोसा कर सके ।

4 इलेक्ट्रिक या सोलर गाड़ियां शुरू करवानी चाहिए सरकारी वाहनों में भी ।

5 सरकार को अमीरो से ज्यादा राजस्व मिलेगा क्योंकि वह pollution कर रहे तो उसकी महंगी कीमत उन्हें देनी चाहिए जो सरकार के खजाने को भरे जिससे सरकार सोलर और इलेक्ट्रिक वाहन की तरफ बढे ।

कोई टिप्पणी नहीं है

कोई जवाब दें