भारत की खोज नही हुई थी

भारत की खोज नही हुई थी

388
0
SHARE

विश्व में भारत की खोज हुई , अमरीका की खोज हुई ऐसा इतिहास पढ़ाया जाता है। जो सरासर सर से पैर तक झूठ का पुलिंदा है । इतिहास लिखा ही उनके द्वारा गया जिन्होंने दुनिया को लूटा ।

भारत विश्व में सबसे पुरानी संस्कृति और सभ्यता का देश है , जब चाहें तब हम इसको प्रमाणित कर देंगे। वैसे गूगल का सही इस्तेमाल आपको भी इस राह पर ले जायेगा।

भारत से माल जाता था अरब व् अन्य बिचौलिए देशो में। जहाँ से वह आगे यूरोप अफ्रीका तक जाता था। मुसलमान लोगों को जब इतनी अकूत सम्पत्ति भारत में दिखी तब उन्हीने भारत पर हमले किये। हर तरह की गलत निति से भारत को कब्जे में लेकर इस सारे व्यापर धन धान्य सबकुछ अपने वश में लिया। यह सब यूरोप अफ्रीका ने भी देखा की अचानक ही मुसलमान कुछ ज्यादा ही धनाढ्य हो गए तब पता लगने पर उन्होंने यह तय किया की जिस देश का हर समान कपडा भोजन फल फूल सभीकुच इतनी अछि गुणवत्ता का है वह देश वह जगह अपने आप में बहुत गुणवान होगी तो क्यों न उस जमीन को ही कब्जा लिया जाये। तब यूरोपियन देशो ने भारत की खोज शुरू की। और भारत आने का रास्ता खोजा।

बस जब उन्हें रास्ता मिल गया तो उन्होंने मुसलमानो से व्यापर कम करके सीधे सीधे भारत में अपने पैर जमाने शुरू किये और भारत में कई वर्षो तक लूटपाट की।

तो ध्यान रहे भारत की खोज नही हुई थी भारत को लुटने के लिए भारत के रास्ते की खोज हुई थी लुटेरो द्वारा।

Also Read:  वरिष्ठ नागरिकों को निशुल्क चिकित्सकीय सलाह

इसी प्रकार आस्ट्रेलिया देश और न्यूज़ीलैंड देश भी अंग्रेजो की खोज के बाद आबाद नही हुए। वहां के भी मूल निवासी थे भारतीय।

किसी मुर्ख लुटेरे कप्तान कुक ने नही बनाया ऑस्ट्रेलिया। न ही वास्को de गामा लुटेरे ने भारत को बसाया।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY