शेयर करें

दोनों डेटा eci की साईट से लिए गए हैं ।

इसमें बड़ा ही स्पष्ट है की बीजेपी की लोकप्रियता और वोट बढ़ी
जबकि अन्य पार्टियो की वोट गिरी

लेकिन जैसा की दिल्ली में भी हुआ की विपक्षी सभी वोट मिलकर सीट जीत गए । वैसा ही प्रमाणिक तौर पर आज बिहार चुनाव में भी हुआ ।

बिकाऊ मीडिया यह आंकड़े नही दिखायेगा की बीजेपी को 2010 के चुनाव में 47 लाख 90 हजार वोट मिली थी 16.49%

जबकि 2015 के चुनाव में 93 लाख 8 हजार वोट मिली (पिछली बार से 2गुणी)
24.4% यानि पिछली बार से 50 प्रतिशत ज्यादा ।

अन्य किसी भी पार्टी के पिछली वोट प्रतिशत बढ़ी ही नही । बल्कि सबकी घटी ।

यह तो सभी कुत्ते समूह में एकत्रित होकर सीट पर कब्जा कर गए जैसा दिल्ली चुनाव में भी किया था ।
अन्यथा तो बिहार का भगवाकरण भी निश्चित था ।
सचेत रहना होगा अब क्योंकि सभी देशविरोधी ताकतें एकजुट हो गयी हैं।

Also Read:  103 स्वदेशी चिकित्सा 3 राजीव दीक्षित

कोई टिप्पणी नहीं है

कोई जवाब दें