शेयर करें

12832292_1126709204026115_2947240725158706736_n“दो चीजें जिन्होंने देश को सबसे ज्यादा नुकसान पहुँचाया है वो हैं भ्रष्टाचार और आरक्षण”

गुजरात हाईकोर्ट के जज ने यह बात ऐसे ही बिना कुछ सोचे समझे नहीं कह दी होगी। यही सोचकर मैंने थोड़ी खोजबीन की तो पाया कि सही में आरक्षण ने इस देश का बहुत नुकसान किया है।

आरक्षण की शुरुआत संविधान के साथ ही 1950 में शुरू हुई पिछड़ी जातियों को आगे लाने के लिए, लेकिन इसका असर बिल्कुल उल्टा हुआ। आप इसी से अंदाजा लगा सकते हैं कि 1950 में 24% जातियाँ ही पिछड़ी थी लेकिन आज लगभग 65% जातियाँ पिछड़े वरग में शामिल हैं। एक बार जिस जाति को आरक्षण का लाभ मिला वो कभी आरक्षण से बाहर आ ही नहीं पाई … या यूँ कहें की आना ही नहीं चाहती … हर कोई फ्री में सब कुछ चाहता है.. सबको सरकारी नौकरी चाहिए .. क्यूँ ? क्यूंकि सरकारी नौकरी में काम करो या न करो, पैसे तो मिलने ही हैं वो भी औकात से ज्यादा … इन मलाईदार कुर्सियों के लालच की व्यवस्था से ही बनाया गया आरक्षण.. अगर सरकारी नौकरी में भी प्राइवेट की तरह जवाबदेही हो, और कार्य अनुसार मानधन तय हो तो कोई भी आरक्षण की मांग ही नहीं करेगा.. मांग ही खत्म हो जायेगी.. 

आरक्षण के कारण ही ऐसे लोग सरकारी अध्यापक बन रहे हैं जो नौकरी के लिए टेस्ट में 200 में से 0 अंक भी नहीं ले पाए। अब ज़रा सोचिए वो जिन विद्यार्थियों को पढ़ाएँगे उनका क्या भविष्य होगा? क्या वो देश के विकास में योगदान दे पाएँगे?

Also Read:  मेरे अपने विचार १६ सितम्बर की बैठक की कार्यवाही के सन्दर्भ में

अगर पिछड़ों को आगे लाना ही है तो उन्हें इस काबिल बनाना चाहिए कि वो बाकियों के साथ सर उठाकर कम्पीट कर सकें। उन्हें एडमिशन फीस में छूट दीजिए, उन्हें वजीफे (scholarships) दीजिए, उन्हें कम ब्याज पर आसान लोन दीजिए। इससे उन्हे सच में लाभ होगा। आरक्षण उन्हें सिर्फ कामचोर बना रहा है और देश को धीरे धीरे हर चीज़ में कमजोर कर रहा है।

आखिर आरक्षण है क्या ?

और इसको होना चाहिए या नहीं ?

होना चाहिए तो किसके लिए ?

आरक्षण मतलब किसी जरुरतमन्द को मौका दिया जाए, वह आर्थिक रूप से पिछड़ा होगा तो सम्भव है की वो समाज में अपनी प्रतिभा या कुशलता को निखर नहीं पायेगा .. क्या आपने कभी सुना की कोई अमीर आदमी पिछड़ा रह गया हो ? अगर नहीं तो फिर तो पिछड़ा मतलब आर्थिक रूप से पिछड़ा ही हुआ न ??

 

तो आरक्षण मतलब स्पष्ट हुआ की आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को आर्थिक मदद का आरक्षण ..

अब यह आर्थिक मदद किस्मे दें ??

उसे डॉक्टर बना दे ? प्रतिभा हो न हो …

या उसे अध्यापक की नौकरी दे दें ? चाहे उसे स्वयम कुछ आता हो या न आता हो ..

या उसे देश का प्रधनमंत्री बना दें ?

नहीं न … ?

 

तो फिर कैसे दें आर्थिक मदद ??

क्या आपको नहीं लगता की भारत में हर व्यक्ति को शिक्षा सरकार की तरफ से मुफ्त या लगभग मुफ्त मिलनी चाहिए .. जब ऐसा होगा तो सभी लोग अपनी प्रतिभा और कुशलता को निखार पायेंगे.. (ऐसा सम्भव है arthkranti टैक्स व्यवस्था से ) 

जो अच्छे छात्र हों और आर्थिक रूप से कमजोर हों उन्हें सरकार उच्च शिक्षा भी दे …

सभी को मुफ्त या लगभग मुफ्त कौशल विकास की शिक्षा दी जाए ? (ऐसा केंद्र की मोदी सरकार ने पहली बार किया है और हर जिले में हर क्षेत्र में यह सब होना शुरू हो गया है ..

अब सोचिये क्या होगा … जो डॉक्टर बनने योग्य होगा क्या उसे डॉक्टर बनने से कोई रोक सकेगा ?

Also Read:  Tax free New Indian Economic System

जो अध्यापक बनने योग्य होगा वो अध्यापक बन सकेगा …

अब बताओ की कहाँ किसको किस आधार पर आरक्षण की जरूरत रह जाएगी ??

देश में आरक्षण की जो गंदी व्यवस्था चलाई गयी है वो सब देशद्रोहियों व् देश के लुटेरों की देन है ताकि भारत और उसके नागरिक आपस में लादे मारें और देश के हजारों टुकड़े हों.. जब आप आरक्षण की मांग करते हो तो जाने अनजाने आप भी देश के टुकड़ों की मांग करते हो, देश की बर्बादी में हिस्सेदारी मांगते हो..

 

आज ही आरक्षण त्यागिये.. लौटिये अपना जातिगत आरक्षण .

देश हित पहले..

आर्थिक आधार पर आरक्षण की मांग कीजिये ..

 

2 ही रास्ते हैं 

1 जनता स्वयम करे यानि जनता स्वयम आरक्षण त्यागे और आर्थिक आधार पर सिर्फ शिक्षा में आरक्षण मांगें. 

2 सरकार करे यानि सरकार आरक्षण की मांग के कारण को समझे (मलाईदार सरकारी नौकरी ) और इन लालची कारणों को जड से खत्म करे ताकि आरक्षण का लालच ही समाप्त हो जाए..

हमारी सेना में आरक्षण नहीं है तो वो दुनिया की सबसे काबिल सेनाओं में गिनी जाती है। हमारे ISRO में ऊँचे पदों पर आरक्षण नहीं है इसीलिए दुनिया के सबसे अच्छे space organisations में गिनती होती है। इसीलिए आरक्षण को जड़ से खत्म करने के लिए हमें कुछ तो करना होगा।

हमने शुरुआत फेसबुक पर एक ग्रुप बनाकर की है जिसका हिस्सा आप भी हो सकते हैं। बस नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक कीजिए और ग्रुप join कीजिए।
अगर आप पहले से ग्रुप में हैं तो अपने उन सभी साथियों को भी ग्रुप में add कीजिए जो आरक्षण के खिलाफ हैं।

Also Read:  Rajiv Dixit Torrents Download

https://www.facebook.com/groups/1009750025771932

 

मूल लेख अंकुश जैन जी का  https://www.facebook.com/ankush.jain.1217?fref=photo

edited और जोड़ हमारे द्वारा नवनीत सिंघल https://www.facebook.com/bhaaratnavneet

 

कोई टिप्पणी नहीं है

कोई जवाब दें