टूथपेस्ट से कैंसर होता है …

टूथपेस्ट से कैंसर होता है …

225
0
SHARE
इंडियंस का माइंड सेट ऐसा है कि जब तक खूब सारा झाग न निकले हम सोचते हैं कि ठीक से सफाई नहीं हुई। इसी का फायदा विदेशी कंपनियां उठाती हैं और ज्यादा झाग के नाम पर हमें कैंसर वाला टूथपेस्ट बेचती हैं। हम शौक से उसे खरीदते भी हैं। राजधानी के रविशंकर यूनिवर्सिटी द्वारा आयोजित डेंटिस्ट्स वर्कशॉप में भोपाल से आए डॉ प्रकाश त्रिपाठी ने ये शॉकिंग जानकारी शेयर की। इसके साथ ही उन्होंने ओरल हेल्थ से जुड़े टिप्स भी दिए।
रायपुर में जारी है डेंटल कांफ्रेंस
चाइल्ड डेंटल हेल्थ पर रायपुर में नेशनल कांफ्रेंस का आयोजन किया जा रहा है। इस कांफ्रेंस में देश भर के डेंटल एक्सपर्ट्स पहुंचे हैं। इस कांफ्रेंस में बच्चों के ओरल हेल्थ को लेकर चर्चा हो रही है।
क्या है कैविटी की वजह?
अक्सर लोग बच्चों को कहते हैं कि चॉकलेट खाने से कैविटी हो जाएगी। चॉकलेट खाने से कहीं ज्यादा नुकसान केयर न करने के कारण होता है। मीठा, जैली या जंक फूड दांतों में बैक्टिरिया को निमंत्रण देते हैं। दांतों पर प्लाक जमने और जर्म के कारण कैविटी होती है। इसलिए जरूरी है कि कुछ भी खाने के बाद तुरंत पानी से कुल्ला करें।
नमक, हल्दी और नींबू है कंपनियों का दिखावा
दूध के दांत को न करें इग्नोर
अक्सर लोग सोचते हैं कि बच्चों के दूध के दांत तो टूट ही जाएंगे। इसलिए उनके खराब होने पर ध्यान नहीं देते, लेकिन इन्हीं दूध के दांतों के नीचे परमानेंट दांत रहते हैं। अगर दूध के दांत में प्रॉब्लम हुई तो परमानेंट दांत में भी प्रॉब्लम हो सकती है। इसलिए जरूरी है कि दूध के दांत सही समय पर आएं और टूटें। 6 महीने की उम्र में बच्चों में टीथिंग प्रोसेस शुरू हो जाती है। एडल्ट के दांत पूरी तरह से मिनरलाइज्ड हो जाते हैं लेकिन बच्चों के दांत में कैल्शियम डेवलप होता रहता है। इसलिए थोड़ा भी दर्द, खून निकलने लगे या दूसरी परेशानी हो तो विशेषज्ञ की सलाह लेना जरूरी है।
सबसे सर्वोत्तम है टैक्स फ्री कास्ट फ्री प्राकृतिक नीम बबूल का दातुन
Also Read:  भारत का अपना ऑपरेटिंग सिस्टम BOSS

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY