चन्द्रावती जहां पत्थर में भी मन्दिर की घंटी बजती है

चन्द्रावती जहां पत्थर में भी मन्दिर की घंटी बजती है

474
0
SHARE

न्द्रावती नगरी राजस्थान के प्रसिद्ध दर्शनीय स्थल माउण्ट आबू से 6 किलोमीटर की दूरी पर दक्षिण में है। ध्वस्त हो चुकी यह नगरी अहमदाबादमार्ग पर परमार शासकों की राजधानी होने के कारण 11वीं-12वीं सदी में बहुत समृद्ध थी। विद्धानों के अनुसार चन्द्रावती नगरी लंका के समान वैभवशाली थी। चन्द्रावती के आस-पास के खण्डहरों को देखकर डॉ. भण्डारकर ने यहाँ कम से कम 360 जैन मंदिरों के अस्तित्व की सम्भावना व्यक्त की है।

विषय सूची

 [छिपाएं]

1 इतिहास1.1 टॉड का वर्णन2 पुरातत्त्व स्थल3 सम्बंधित लिंक

इतिहास

संवत 1503 में सोमधर्म रचित ‘उपदेश सप्तसति’ ग्रंथ में चन्द्रावती के 444 जैन मंदिर तथा 999 शेष मंदिरों का उल्लेख है। परमार शासकों की राजधानी में यशोधवल एवं धारावर्ष प्रतापी राजा हुए हैं, जिनकी कीर्ति दूर-दूर तक फैली हुई थी। 1303 ई. तक यहाँ परमार शासकों का शासन रहा था। 1311 ई. में राव लूमा ने इस पर अधिकार कर परमार शासन परम्परा को खत्म कर दिया। दिल्लीगुजरात के मुख्य मार्ग पर स्थित होने के कारण यह समृद्धशाली नगरी मुस्लिम आक्रांताओं द्वारा अनेकों बार लूटी गई। गुजरात के सुल्तान बहादुरशाह (1405-1442ई.) ने चित्तौड़ की विजय से लौटते समय इस नगरी को आँखों से देखकर इसका चित्रण अपनी पुस्तक ‘ट्रेवल्स इन वेस्टर्न इण्डिया’ में किया है।

टॉड का वर्णन

टॉड के अनुसार यहाँ विभिन्न आकार-प्रकार वाली बीस इमारतें थीं। यहाँ पर मिली 138 मूर्तियों में ‘त्रयम्बक’ (तीन मुँह वाली आकृति) घुटने पर स्त्री बैठी हुई, बीस भुजाओं वाले शिव, जिनके बाईं ओर एक महिष है और दाहिना पैर उठाकर गरुड़ जैसी आकृति पर रखा हुआ है। एक महाकाल की बीस भुजाओं की प्रतिमा भी मिली है। टॉड ने मंदिर के भीतरी भाग और मध्य के गुम्बद की कलाकारी को बारीक एवं उच्च कोटि का बताया है।

Also Read:  India secular "because of Hindus"

पुरातत्त्व स्थल

यह ध्वस्त नगरी इतिहासकारों एवं पुरातत्त्वेत्ताओं के लिए रोचक एवं खोज के उपयुक्त स्थल के रूप में आज विद्यमान है। यहाँ के टीलों में अनेकों मूर्तियाँ अभी भी दबी पड़ी हैं। वर्तमान में ऐतिहासिक नगरी ध्वस्त क्षेत्र की तारबन्दी की हुई है। यहाँ खुले में सैकड़ों खण्डित प्रतिमाएँ, स्तम्भ, कलश, बेलबूटेदार, पत्थर, गुम्बद, ईटों के टुकड़े इत्यादि इन टीलों के पास बिखरे पड़े हैं। यहाँ के क़रीब 20 बड़े-बड़े टीलों को देखने पर लगता है कि यहाँ अनेक मंदिर विष्णु एवं शिव के रहे हैं। यहाँ पर अनेक खण्डित प्रतिमाएँ मिली है, जिसमें गणेश की खड़ी हुई प्रतिमा, ब्रह्मा प्रतिमा, देवी प्रतिमा, रणभैरी से सम्बन्धित पत्थर लेख, कुबेर की खण्डित प्रतिमा, जो अन्दर से खोखली है।

इस प्रकार की प्रतिमाएँ मदिंर में दान-भेट डालने के लिए रखी जाती थीं। काम-कला से सम्बन्धित कुछ खण्डित मूर्तियाँ भी ध्वस्त मंदिर के गर्भगृह के बाहर बारीकी से उत्कीर्ण हैं। ध्वस्त मंदिर के फाउंडेशन पर जानवरों, गन्धर्वोंअप्सराओं की मैथुन क्रियाओं आदि से सम्बन्धित कुछ मूर्तियाँ उत्कीर्ण हैं। इस ध्वस्त क्षेत्र के लिए ऐसा माना जाता है कि ब्रिटिश सरकार ने जब रेलमार्ग बिछाया था, तब यहाँ के उत्कीर्ण पत्थरों को पटरियों के नीचे बिछा दिया तथा अधिकांश मूर्तियों को तस्कर और चोर उठाकर ले गये। वर्तमान में चन्द्रावती के ध्वस्त टीलों में हमारी कला और संस्कृति की भावी सम्भावना नज़र आती है।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY