किसान की हत्या या आत्महत्या

किसान की हत्या या आत्महत्या

188
0
SHARE

इस चित्र को ध्यान से समझने की जरूरत है।

पहले किसान ने बैलो को कटने के लिए दिया।

यह तो उसकी सजा है ।

फिर उसने बाज़ारू व्यवस्था को अपनाया ।

बीज बनाने बन्द किये  खरीदने शुरू
बैल कटने भेज दिए।  ट्रेक्टर और डीजल का खर्च शुरू

गोबर की खाद बन्द की  बाजार से यूरिया dap खरीदना शुरू

गोमूत्र व् देसी कीटनाशक बन्द किये और बाजार से कीटनाशक खरीदना शुरू

अपने बच्चों को अंग्रेज बनाने के लिए  खेती से दूर किया। और महंगी लेबर लगाना शुरू ।

नतीजा तो आत्महत्या ही होगा न ।

जिसने अपनी कमाई के लिए लोगों की जान से खेलना सही समझा
उसकी मौत पर शोक क्यों ?

हाँ सावधान करो किसानो को
की यह सब मूर्खता और अनजाने में हत्या बन्द करो
वरना आप स्वयं ही अपनी मृत्यु के जिम्मेदार हो ।

शहर का मानस तो मुर्ख है
उसकी बातों में फंसकर अंग्रेज न बनो

जमीन से जुड़े रहो
हवा
पानी
और भोजन ही चाहिए जीने को

और कुछ नही

Also Read:  मुल्ले इसाई व् यहूदी सब एक ही हैं अधर्मी

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY