काला धन 34.68 लाख करोड़ रूपये (2004-2013) UPA कांग्रेस सरकार

    408
    0
    SHARE
    26 july 14 hindustan
    26 july 14 हिंदुस्तान अखबार से

    केंद्र की मोदी सरकार की तरफ से गठित SIT (विशेष जांच दल) ने DRI ( Directorate of Revenue Intelligence) को निर्देश दिया है की वो इस बात की पुष्टि करे की भारत से काले धन के रूप में 34.68 लाख करोड़ रूपये (2004-2013) UPA कांग्रेस सरकार के काल में विदेश भेजा गया..

    ग्लोबल फाइनेंसियल इंटीग्रिटी नाम की संस्था ने एक रिपोर्ट जारी कर यह आंकड़े प्रस्तुत किये हैं जिसकी जांच के आदेश विशेष जांच दल ने DRI को दिए हैं..

    भारत इस सूचि में चौथे स्थान पर है.. जहाँ से 51 हजार मिलियन (milion माने 10 लाख) अमरीकी डॉलर (1 डॉलर 68 रूपये औसतन) प्रति वर्ष लगातार 9 वर्ष तक कांग्रेस सरकार के राज में RBI की नाक के निचे से, (बिना उसकी जानकारी के, यह असंभव सी बात है की RBI को इसका नहीं पता होगा), विदेशो में जमा होता रहा और कांग्रेस सुप्रीम कोर्ट में SIT जांच न बिठाने के लिए आवेदन करती रही..   

    Appendix Table 2. Country Rankings by Largest Average Illicit Financial Flows, 2004-2013 (HMN + GER)

    Screenshot 2016-02-16 07.30.19

    Wed, 26 Mar 2014-09:26pm , IANS

    The Supreme Court Wednesday rejected the Centre’s plea seeking recall of the court’s order setting up a Special Investigation Team (SIT) to probe the flight of unaccounted money in foreign banks.

    The court also slammed the successive governments at the Centre in the last 65 years for doing nothing to bring back the black money stashed away in tax havens abroad.

    The bench of Justice H.L. Dattu, Justice Ranjana Prakash Desai and Justice Madan B. Lokur said that since 1947, nobody thought of taking back this money.

    Also Read:  Hyderabad suicide Real Story

    After 65 years, at least a citizen in 2011 came and complained that the economy of the country was getting destroyed on account of black money getting parked in tax havens, the court said.

    The court said this as it turned down the Centre’s plea for the recall of the court’s July 4, 2011, order to set up a Special Investigation Team headed by its two former judges to monitor investigations into stashing away of black money in tax havens.

    A bench of Justice B. Sudershan Reddy (since retired) and Justice S.S. Nijjar on July 4, 2011, appointed the SIT headed by Justice (retd) B.P. Jeevan Reddy with Justice M.B. Shah as his deputy.

    Appreciating counsel Ram Jethmalani for bringing the issue before the court, Justice Dattu said: “If the money is brought back, we need not pay 30 percent tax.”

    http://www.dnaindia.com/india/report-supreme-court-rejects-centre-s-plea-over-black-money-probe-1972474

    Screenshot 2016-02-16 07.52.33

    अगर इन आंकड़ो को समझें तो प्रति वर्ष 3.8 लाख करोड़ रूपये की औसत दर से रुपया भारत से बाहर विदेशो में भेजा गया.. 

    अब देखना यह है की नरेंद्र मोदी जिनसे भारत की जनता को पूरी उम्मीद है की वो ये सब जांच सही से करवाएंगे और इस काले धन को विदेशो से वापस लाकर भारत के कर्ज को खत्म करेंगे और रूपये को विश्व की सबसे मजबूत करेंसी डॉलर के बराबर लायेंगे, वो क्या करते हैं..

    हम यहाँ स्पष्ट कर दें की हमें अरुण जेटली से कोई उम्मीद नहीं दिखती.. वो मनमोहन सिंह को अच्छा वित्त मंत्री बताकर अपने आप को EXPOSE करवा ही चुके हैं की वो भी शायद विदेशी अमीर देशो की नीतियों का समर्थन करते हैं और उन्हें और अमीर बनाने में और भारत जैसे विकासशील देशो की आर्थिक लूट की नीतियों में सहयोग करते हैं..

    हमारी माने तो काला धन विश्व में कहीं भी होगा, तुरंत वापस आएगा भारत में या स्वतः ही अपनी कीमत खो देगा अगर केंद्र सरकार यह करे तो..

    पहले तो सभी ५००-१००० के नोट वापिस बुला ले और नए नोट जारी करे.. इससे देश या विदेश में जहाँ पर भी नोट के रूप में धन पड़ा है वो बाहर आएगा और बैंक में जमा होगा, जो जमा नही होगा वो खत्म हो जायेगा.. दूसरा उपाय देश के बाहर जमा सारे धन को (चाहे गोरा धन या काला धन) उसको राष्ट्रिय संपती खोषित करके भारत में मंगवा लिया जाये तुरंत. उसके बाद जो भी क्लेम करे की वो गोरा धन है उसको साबित करने दिया जाये उसका गोरा धन, जो न कर पाए या जो न करना चाहे वो भूल जाये अपने काले धन को… (साथ ही पढ़ें ARTHKRANTI टैक्स सिस्टम को जिसको अपनाने से काले धन की दूकान लगभग बंद ही हो जाएगी )

    कम से कम देश का पैसा तो देश के पास आएगा.. और बाकी सब कार्यवाही तो होती रहेगी…

    पूरी पोस्ट यहाँ पढ़ें (नोट यह पुराणी पोस्ट है जब तक नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की फाइल सार्वजनिक नहीं हुई थी ) http://wp.me/p7cxpA-3E

     

    ग्लोबल फाइनेंसियल इंटीग्रिटी की यह पूरी रिपोर्ट आप यहाँ से डाउनलोड कर सकते हैं..  (https://www.scribd.com/doc/292659470/Illicit-Financial-Flows-from-Developing-Countries-2004-2013)

    Also Read:  मंगोलिया में भी था सनातन धर्म

     

    यह भी पढ़ें http://eksacchai.blogspot.com/2014/10/blackmoney.html

    NO COMMENTS

    LEAVE A REPLY